Sundarkand Paath

सुंदरकांड’ ‘श्री रामचरित मानस’ का पंचम सोपान है। रामचरित मानस महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित ‘रामायण’ पर आधारित महाकाव्य है। महर्षि वाल्मिकी ने रामायण संस्कृत में लिखी थी जिससे आम आदमी तक सीधे उसकी पंहुच नहीं थी लेकिन तुलसीदास ने तत्कालीन आम बोलचाल की भाषा अवधी में इसकी रचना कर रामायण को घर-घर पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई। लोगों की ज़बान पर मानस चढ़ने का एक कारण यह भी था कि आम बोलचाल की भाषा में होने के साथ-साथ इसमें गेयता है, एक लय है, एक गति है। वैसे तो रामचरित मानस में तुलसीदास ने प्रभु श्री राम के जीवन चरित का वर्णन किया है और पूरे मानस के नायक मर्यादापुरुषोत्तम भगवान श्री राम ही हैं। लेकिन सुंदरकांड में रामदूत, पवनपुत्र हनुमान का यशोगान किया गया है। इसलिये सुंदरकांड के नायक श्री हनुमान हैं। Sunderkand is the fifth section of the Hindu sacred book called ''Ramayan''. The Ramayana has been separated into following sections by Tulsidas according to the occasions and significance of the life of master shri Ram. Balyakand Ayodhyakand Aranyakand Kishkindhakand Sunderkand Lankakand Utarakand The Sundarkand is the fifth part and the most honored Kand of Ramayana .The area subtle elements Hanumanji''s excursion to Lanka looking for Maa Sita. Discussing the Sundarkand is considerd as exceptionally favorable and it is a standout amongst other techniques to adore Hanumanji.Sudarkand initiates with Jamba van reminding Hanumanji about his forces and Hanumanji setting on the adventure to Lanka to discover Maa Sita.Sundar Means beautiful,also one of the names of Hanumanji is Sundar.Sundarkand states characteristics of Hanumanji and that for Hanumanji nothing is impossible.Sundarkand shows us that Dharma alone will triumph. Hanuman puja is considered to satisfy all desires . In Scriptures there are number of ventures to get its favors and one of them is Sunderkand Paath. In Ram Charit Manas a lot of significance has been given to Sunderkand.


Book Pandit Ji Online for All Types of Puja


Total 36 State Name Are Avaliable